दैनिक समाचार पत्र के संपादक को अपनी कविता प्रकाशित करने का अनुरोध करते हुए पत्र।

sampadak ko apni Kavita prakashit karne ka anurodh karte hue Patra.



C-23 उत्तम नगर
नई दिल्ली। संपादक महोदय,
दैनिक जागरण,
अंसारी रोड, नई दिल्ली

दिनांक – 12-9-2021



विषय: अपनी कविता प्रकाशित करने का अनुरोध।

महोदय,
मैं सरीन, एम ए स्नातक की एक छात्रा हूँ तथा आपके प्रतिष्ठित समाचार-पत्र दैनिक जागरण की नियमित पाठक हूँ। इस समाचार-पत्र की स्पष्टवादिता और समाचारों की विश्वसनीयता के कारण मैं इसे बहुत पसंद करती हूँ। महोदय, बचपन से ही लेखन में मेरी काफ़ी रुचि रही है। कविता व कहानी-लेखन मुझे विशेष प्रिय हैं। मेरी कुछ रचनाएँ विद्यालय पत्रिका तथा दैनिक भास्कर आदि में प्रकाशित हो चुकी हैं।

जैसे कि हम जानते हैं हमारे देश में काफी हद तक भ्रष्टाचार फैला हुआ है। और हमारी कानून व्यवस्था भी काफी हद तक सही नहीं है। इसलिए मैं चाहती हूँ कि मेरी रचनाएँ आपके समाचार-पत्र में भी प्रकाशित हों। आज चारों ओर व्याप्त भ्रष्टाचार की समस्या को आधार बनाकर मैंने एक कविता लिखी है। यदि आप इसे अपने समाचार-पत्र में प्रकाशित करें, तो मैं आपकी सदा आभारी रहूँगी।

धन्यवाद सहित,
भवदीय
सरीन

Leave a Reply

%d bloggers like this: