दिवाली पर अपने मित्र को शुभकामना पत्र।

Diwali par apne mitra ko shubhkamana Patra.


127, विकास नगर नई दिल्ली, 14–अक्टूबर


प्रिय मित्र अनुराग,

प्रिय मित्र आज दिवाली का त्यौहार है। मैंने सोचा था कि आज के दिन तुम यहां आओगे। लेकिन ना तुम आते हो, और ना तुम्हारा कोई समाचार मिलाता है। आशा है, तुम स्वस्थ होंगे, और तुम्हारे परिवार में भी सब सकुशल होंगे।

आज दिवाली के दिन चारों और बड़ी चहल-पहल है। लोगों के चेहरों पर खुशी साफ दिखाई दे रही है। दिवाली हमारे देश का सबसे अच्छा और बड़ा त्यौहार है। कहते है, इसी दिन श्री राम चन्द्र, लंका के राजा रावण को हराकर, चौदह वर्षों के बाद अयोध्या लौटे थे। इसी खुशी में लोग दिवाली का त्योहार मनाते है। इस दिन लोग घरों की साफ-सफाई करते हैं, नए-नए कपड़े पहनते हैं, तथा रात में लक्ष्मी पूजन करते हैं। यह त्योहार सारे भेद-भाव को समाप्त कर, सबको मिल-जुलकर रहना सिखाता है, इस दिन लोग बहुत सारे पटाखे भी जलाते हैं। लेकिन कुछ लोग भुल जाते हैं कि पटाखों से वायु प्रदुषण भी फैलता है।

आशा है कि तुम यह त्योहार खुबसूरत तरीके से मनाओगे, पटाखों से दूर रहोगे। अतः इससे होने वाली बीमारियों से सचेत रहोगे। तुम्हें और तुम्हारे परिवार को मेरी तरफ से दिवाली की हार्दिक शुभकामनाएं।

तुम्हारा मित्र, निमिश

Leave a Reply

%d bloggers like this: